भारत में जन सामान्य के लिए इंटरनेट सेवा का आरम्भ 15 अगस्त 1995 को किया गया जिसे विदेश संचार लिमिटेड द्वारा प्रारम्भ किया गया. सिस्को की विजुअल नेटवर्किंग इंडेक्स (VNI) की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2021 तक इंटरनेट यूजर्स की संख्या बढ़कर 82.9 करोड़ हो जाएगी

30th Anniversary Of The World Wide Web: वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) को 30 साल हो चुके हैं. गूगल (Google) 30वें बर्थडे (30th Anniversary Of The World Wide Web) को डूडल (Google Doodle) के जरिए सेलीब्रेट कर रहा है.

12 मार्च 1989 को ब्रिटिश भौतिक विज्ञानी टिम बर्नर्स ली (Tim Berners-Lee) यूरोप के रिसर्च सेंटर CERN में काम करते थे. वहां उन्होंने वर्ल्ड वाइड वेब का इजाद किया. उनकी वजह से आज करोड़ों लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं.

Untitled

WWW के उत्पत्ति के लक्षण 1980 में ही दिखने लगे थे. 1989-90 में पहली बार कंप्‍यूटर वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली (Tim Berners-Lee) ने वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) का आइडिया दिया था.

उस समय टिम (Tim Berners-Lee) को अंदाजा भी नहीं था कि वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) इतना बड़ा आकार ले लेगा. हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैस आया वर्ल्ड वाइड वेब

1. टिम बर्नर्स ली (Tim Berners-Lee) ने स्विटजरलैंड में यूरोपीय नाभिकीय अनुसंधान संगठन (CERN)में नौकरी करने के दौरान ब्राउजर कंप्यूटर प्रोग्राम लिखा था. उन्‍होंने तीन टेक्‍नोलॉजी के फंडामेंटल लिखे जिनमें, HTML, URL और HTTP शामिल है. 6 अगस्त 1991 को टिम (Tim Berners-Lee) ने वर्ल्ड वाइड वेब प्रोजेक्ट का रिसर्च पेपर पब्लिश किया.

2. इस रिसर्च पेपर में टिम (Tim Berners-Lee) ने CERN के अपने मैनेजर से एक ऐसे इंफॉर्मेशन सिस्टम की मांग की थी जो उनकी लैब में एक कम्प्यूटर से दूसरे को कनेक्ट कर सके. टिम (Tim Berners-Lee) का यह प्रपोजल स्वीकार कर लिया गया और इसके बाद यूनिवर्सिटी और रिसर्चर्स एक कनेक्शन नेटवर्क से जुड़े.
3. यह था इंटरनेट पर पहला कम्युनिकेशन. 1991 में वेब ब्राउजर को CERN के बाहर रिलीज किया गया. अन्य रिसर्च संगठनों ने भी इस पर काम किया. इस तरह से 6 अगस्त को इंटरनेट का जन्म हुआ. पहली वेबसाइट http://info.cern.ch थी.
4. इसके बाद शुरू हुआ वो दौर जिसने आज के जमाने के इंटरनेट की नींव रखी. इस दौर में कई वेब कंपनियों ने जन्म लिया. जिसमें गूगल, अमेजन जैसी कंपनियां शामिल हैं भारत में जन सामान्य के लिए इंटरनेट सेवा का आरम्भ 15 अगस्त 1995 को किया गया जिसे विदेश संचार लिमिटेड द्वारा प्रारम्भ किया गया. सिस्को की विजुअल नेटवर्किंग इंडेक्स (VNI) की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2021 तक इंटरनेट यूजर्स की संख्या बढ़कर 82.9 करोड़ हो जाएगी

Leave a Comment

icon

We'd like to notify you about the latest updates

You can unsubscribe from notifications anytime