Nag Panchami 2022 : कल है नाग पंचमी, रुद्राभिषेक से होगा कालसर्प और राहु दोष से छुटकारा, जाने सही मुहूर्त, मंत्र उच्चारण विधि,

Nag Panchami 2022:- सावन मास आते ही शिव भक्तों में अलग सी अलख एवं भक्ति में माहौल बन जाता है, नाग पंचमी का पावन त्यौहार हर वर्ष सावन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है | इस बार के सावन में नाग पंचमी का त्यौहार 2 अगस्त 22 को मनाया जाएगा | ग्रंथों के अनुसार नाग पंचमी के दिन किए गए कुछ पूजा उपायों के कारण कालसर्प दोष तथा राहु दोष से भक्तों को शांति मिलती है |

ऐसी समस्याओं को दूर करने के लिए यह काफी उपयुक्त दिनों में से एक माना जाता है | वैदिक ज्योतिष में कुछ ऐसे योग होते हैं जिन्हें बड़ा ही अशुभ माना गया है | विदेशों में कालसर्प दोस्ती आता है | अगर आपके भी कुंडली में कालसर्प दोष व्याप्त है तो इन से होने वाली परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है तथा व्यक्ति को काफी संघर्ष भरी जीवन जीना पड़ता है |

Nag Panchami 2022 हर साल सावन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर नाग पंचमी मनाई जाती है | ऐसे में अलग-अलग मैं अलग अलग तरीके पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है | नाग पंचमी के दिन कालसर्प दोष की पूजा करने पर व्यक्तियों को इस पोस्ट से काला भी मिल जाता है | जिसमें भक्तों द्वारा नाग पंचमी के दिन गाय का दूध और लावा मिलाकर नागदेव को भोग लगाया जाता है, तथा पूजा पाठ भी किया जाता है |

Nag Panchami 2022 की शुभ तिथि क्या है जाने

  • Nag Panchami 2022 इस वर्ष सावन का पंचमी तिथि प्रारंभ 2 अगस्त, 2022, दिन मंगलवार सुबह 5 बजकर 14 मिनट से
  • वही नाग पंचमी तिथि का समापन 3 अगस्त दिन बुधवार सुबह 5 बजकर 42 मिनट पर रहेगी
  • नाग पंचमी पूजा मुहूर्त 2 अगस्त दिन मंगलवार सुबह 6 बजकर 6 मिनट से 8 बजकर 42 मिनट तक रहेगी

शिव योग में नाग पंचमी कब है | Nag Panchami 2022

Nag Panchami 2022, ज्योतिष आचार्यों के अनुसार 2 अगस्त को नाग पंचमी पर शिव योग तथा सिद्ध योग बन रहा है | वही ज्योतिष गणना के अनुसार नाग पंचमी तिथि पर दो शुभ योग बन रहे हैं | आपको बता दें कि शिवयोग 2 अगस्त को शाम 6:00 बजे 39 मिनट तक रहेगा तथा उसके उपरांत सिद्ध योग आरंभ हो जाएगा | यहां यह भी विख्यात है कि सी योग में उपासना करने और नाग पंचमी पर नाग देवता की पूजा करने से कुंडली से कालसर्प दोष से छुटकारा प्राप्त होती है |

Nag Panchami 2022 के दिन काल सर्प दोष मुक्ति पूजा

Nag Panchami 2022, हमारे पुराने ग्रंथों के अनुसार नाग पंचमी के दिन कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए पूजा करना बहुत ही लाभकारी सिद्ध माना जाता है | कालसर्प दोष निवारण हेतु सरसों का तेल, सफेद चंदन, काले तिल, नारियल, वस्त्र, 7 अनाज दान करें साथ ही साथ सूर्य चंद्र ग्रहण तथा नाग पंचमी पर रुद्राभिषेक अवश्य कराएं | तथा इस संबंध में और विद्वत तरकारी हेतु अपने प्रख्यात पंडितों से जानकारी अवश्य हासिल कर ले |

Sarpa Suktam Path – सर्प सूक्त अंपाठ देखें

ब्रह्मलोकेषु ये सर्पा शेषनाग परोगमा: ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा

इन्द्रलोकेषु ये सर्पा: वासुकि प्रमुखाद्य: ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा

कद्रवेयश्च ये सर्पा: मातृभक्ति परायणा ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

इन्द्रलोकेषु ये सर्पा: तक्षका प्रमुखाद्य ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

सत्यलोकेषु ये सर्पा: वासुकिना च रक्षिता ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

मलये चैव ये सर्पा: कर्कोटक प्रमुखाद्य ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

पृथिव्यां चैव ये सर्पा: ये साकेत वासिता ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

सर्वग्रामेषु ये सर्पा: वसंतिषु संच्छिता ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

ग्रामे वा यदि वारण्ये ये सर्पप्रचरन्ति ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

समुद्रतीरे ये सर्पाये सर्पा जंलवासिन: ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

रसातलेषु ये सर्पा: अनन्तादि महाबला: ।

नमोस्तुतेभ्य: सर्पेभ्य: सुप्रीतो मम सर्वदा ।।

।। इति श्री सर्प सूक्त पाठ 

Nag Panchami 2022 – महत्वपूर्ण लिंक

Gadgets Update Hindi Home Page LinkClick Here
Nag Panchami 2022Click Here
इस वर्ष नाग पंचमी कब है?Click Here
Instagram Joining LinkClick Here
telegram webClick Here
Google NewsClick Here

Leave a Comment