Rosa Bonheur Hindi 2022: कौन है रोसा बोनहर जिन्हें आज गूगल ने बनाया डूडल आईकॉन?

Rosa Bonheur Hindi 2022: कौन है रोसा बोनहर जिन्हें आज गूगल ने बनाया डूडल आईकॉन?

गूगल ने आज विशेष तौर पर फ्रांसीसी कलाकार Rosa Bonheur Hindi को डूडल में जगह दी है आप सभी को पता होगा गूगल विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजन है| गूगल लगातार ऐसे सुप्रसिद्ध कलाकारों को अपनी सर्च इंजन में डूडल के माध्यम से जगह देता आता है| आज फ्रांसीसी कलाकार Rosa Bonheur का 200 वां जन्मदिन है |

इन के सम्मान में गूगल ने अपने डूडल आईकॉन में जगह दी है | Rosa Bonheur Hindi एक चित्रकार के रूप में जाने जाते थी, जिन्हें विशेष रूप से जानवरों का चित्रकारी किया करते थे | इनका जन्म 16 मार्च 1822 में हुआ था तथा इनकी मृत्यु 25 मई 1899 हुई थी | इनका जन्म बोन्हूर, बोर्डो, गिरोह में हुआ था | उनकी मां सोफी बोनहेड एक शिक्षिका थी |

Rosa Bonheur Hindi 2022, Who is Rosa Bonheur whom Google made doodle icon today
Rosa Bonheur Hindi 2022, Who is Rosa Bonheur whom Google made doodle icon today

Rosa Bonheur Hindi 2022 , {जब रोजा ग्यारह वर्ष की थी तब उसकी मृत्यु हो गई}11 वर्ष की माता की मृत्यु हो गई थी पिता ऑस्कर रेमंड बोनहेड थे जो एक प्रसिद्ध चित्रकार भी थे रोसा बोनह और एक यहूदी मूल की चित्रकार थी |

Rosa Bonheur Hindi- कौन है रोसा बोनहर जीवनी

पूरा नाम Marie-Rosalie Bonheuro | Rosa Bonheur Hindi
के लिए जाना जाता है Realistic animal pictures and sculptures. Considered to be the most famous female painter of the 19th century.
Rosa Bonheur Hindi , जन्म16 मार्च, 1822 को बोर्डो, फ्रांस में
माता-पिता:Sophie Marquis and Oscar-Raymond Bonheur
मृत्यु25 मई, 1899 को थोमेरी, फ्रांस में
शिक्षाTrained by his father, who was a landscape and portrait painter and art teacher
माध्यमpainting, sculpture
कला आंदोलनयथार्थवाद
सेलेक्टेड वर्क्सPlowing in the Nivernaise (1949), The Horse Fair (1855)

Rosa Bonhar’s Early Years

1822 में , सोफी मार्क्विस और रेमंड बोनहेर का पहला बच्चा मैरी-रोज़ली बोनहेर था । उनका विवाह एक सुसंस्कृत महिला का विवाह था जो यूरोपीय अभिजात वर्ग की कंपनी और लोगों के एक पुरुष के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

Rosa Bonheur Hindi 2022: कौन है रोसा बोनहर जिन्हें आज गूगल ने बनाया डूडल आईकॉन?

रोजा बोनहेर अपनी सफलता का एक हिस्सा जो को देते हैं (हालांकि सोफी मार्क्विस की 1833 में बीमारी से मृत्यु हो गई, जब बोनहेर केवल 11 वर्ष का था)। जो केवल एक मामूली सफल कलाकार बन जाएगा (हालांकि रोजा बोनहेर उसे अपनी प्रतिभा विकसित करने के लिए श्रेय देगा)। Rosa Bonheur Hindi,

Leave a Comment